संस्थापकवाद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

संस्थापकवाद (संस्थापकवादी होना)[1] एक बौद्धिक दृष्टिकोण है, जिसमें किसी राज्य के संस्थापकों के लिए सबल श्रधा होती हैं।[2] यह शब्द एक अपमानजनक नाम-विशेषण के रूप में देखा जाता हैं,[3] व यथाचिन्हीतों पर ऐसे वैश्विक नज़रिये रखने का आरोप लगाता हैं जो संस्थापन को जड़ासक्ति में बदलने के लिए ऐतिहासिक परिशुद्धि का त्याग करता हैं।[4]

विरोधार्थी संस्थापकवाद-विरोध उनके प्रयुक्त किया जाता हैं, जिन्हें "यकीनन लगता हैं कि" राज्य के "उद्गमों में कुछ तो गम्भीरतापूर्वक ग़लत था"।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Carl Scott (September 10, 2013). "American Liberty #2: The Shortcomings of Conservative Founderism". First Things. http://www.firstthings.com/blogs/firstthoughts/2013/09/american-liberty-the-shortcomings-of-conservative-founderism. 
  2. James Ceaser (November 10, 1997). The Founders' Friend: Thomas West Argues for 1776. The Weekly Standard. pp. 36–37. http://www.vindicatingthefounders.com/reviews/ceaser.html. 
  3. James W. Ceaser (1997). Reconstructing America: The Symbol of America in Modern Thought. Yale University. प॰ 252. 
  4. Peter Lawler (October 1, 2009). "Some Anti-Straussophobic Answers". First Things. http://www.firstthings.com/blogs/firstthoughts/2009/10/some-anti-straussophian-answers.